सब के सब चोर हैं -imrankhan

posted Jan 22, 2013, 9:35 AM by A Billion Stories

सूरमा जी हमारे पडोसी हैं। एक दिन उन्होंने हमें चाय पर बुलाया। सूरमा जी एक प्राइवेट फर्म में लिपिक के पद पर थे, लेकिन घर उन्होंने बड़ा अच्छा सजा रखा था। दो दो एयर कंडीशनर , गीजर ; वाह जी वाह! बातों ही बातों में राजनीती की चर्चा शुरू हुई, अरविन्द केजरीवाल और मुकेश अम्बानी का ज़िक्र आया। सूरमा जी बोले "सब के सब चोर हैं, मुकेश अम्बानी को देख लो , देश को नुकसान पहुंचाता है, जिसे हम देश का गौरव समझते थे वो ही चोर निकला।" मैंने भी पनीर खाते हुए अपनी सहमति जताई।

खाने के बाद चाय का सिलसिला शुरू हुआ, मैंने चाय की चुस्की के साथ शर्मा जी से पुछा "सूरमा जी ये तो बताइए दो दो एयर कंडीशनर का खर्चा कैसे उठाते हैं"|

सूरमा जी बड़े गर्व के साथ बोले "वो जी कुछ नहीं डॉक्टर साहब! बस शाम होते ही मीटर पर मैगनेट रख देते है, इलेक्ट्रॉनिक मीटर खुद-ब-खुद बंद हो जाता है।"

मेरी चाय ख़तम हो चुकी थी और मैं शर्मा जी के इन वचनों को सोचता हुआ उठा " सब के सब चोर हैं"|
-imrankhan

Submitted on: Sat Jan 19 2013 01:52:18 GMT-0800 (PST)
Category: Original
Language: Hindi
Copyright: A Billion Stories (http://www.abillionstories.com)
Submit your own work at http://www.abillionstories.com
Read submissions at http://abilionstories.wordpress.com
Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore in your own language at http://www.abillionstories.com/submit
Comments