तुम कौन? -जनाब Thu Mar 08 2012 10:52:47 GMT-0800 (PST)

posted Mar 8, 2012, 10:53 AM by A Billion Stories
डालो,
मार डालो,
साले को मार डालो |

दो,
फ़ेंक दो,
काट के फ़ेंक दो,
लाश को काट के फ़ेंक दो |

लो,
वसूलो,
हफ्ता वसूलो,
सालों से हफ्ता वसूलो |

हूँ,
राजा हूँ,
मैं राजा हूँ |

है,
जागीर है,
मेरी जागीर है,
ये राष्ट्र मेरी जागीर है,
मेरे बाप की दी जागीर है |

हूँ,
बेच सकता हूँ,
थोडा हो या आधा हो,
मेरी जागीर को मैं बेच सकता हूँ |

कौन?
तुम कौन?
रोकने वाले तुम कौन?

क्या?
तो क्या?
तुम्हारा राष्ट्र है तो क्या?
मेरे बाप की दी जागीर है,
रोकने वाले तुम कौन?
जागीर के साथ तुमको भी बेच सकता हूँ,
रोकने वाले तुम कौन?
-जनाब

Submitted on: Wed Feb 15 2012 06:59:53 GMT-0800 (PST)
Category: Original
Language: Hindi
Copyright: A Billion Stories (http://www.abillionstories.com)
Submit your own work at http://www.abillionstories.com
Read submissions at http://abilionstories.wordpress.com
Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore in your own language at http://www.abillionstories.com/submit
Comments