वो पूछते हैं की उनके बिन मैं कैसे जिया -A.Kumar

posted Aug 29, 2014, 7:51 AM by A Billion Stories   [ updated Feb 1, 2015, 3:55 AM ]
अरे । मैं उनके पीछे दौरा भागा किया,
एक बूँद अमृत की चाह थी,
फिर भी मैंने सागर पिया ।
फिर भी वो पूछते हैं की उनके बिन कैसे जिया ?
उनके बिन हो गया था दीवाना,
फिर कहाँ था दर्द,
जब हो चला था खुद से बेगाना ।
कितनी आहें भरी, कितनी सिसकियाँ रोइ
खुद को कैसे भी उनसे मिलने की उम्मीद दे जिन्दा बस रख लिया
फिर भी वो पूछते हैं की उनके बिन मैं कैसे जिया ?
A.Kumar
 


Photo by:
Submitted by: A.Kumar
Submitted on: Sat Aug 09 2014 13:04:25 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi


- Read submissions at http://abillionstories.wordpress.com
- Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon, drawing, article in your own language at http://www.abillionstories.com/submit

Comments