क्या मैं आपको जानता हूँ ? -हरेकृष्ण आचार्य

posted Dec 29, 2015, 5:11 AM by A Billion Stories
क्या मैं आपको जानता हूँ ?

मैंने आपको कहीँ देखा है ।

एक बार नहीं कई बार,
शायद …

लेकिन आप ने मुझे अभी तक नहीं देखा ,
देखते भी तो मुझे पहचानते नहीं
शायद …

एक बार एक मोड़ पे ,
मैं खड़ा इंतज़ार कर रहा था जब ,
एक तेज़ ट्रक में बैठे आप ,
मेरे पास से निकले थे ।

मुझे याद है ,
आप ही थे ,
शायद …

कई बरस बाद फिर ,
एक बरसाती रात में ,
बिजली के खम्बे के पास,
से गुज़रा था मैं जब,
आप खड़े थे बिन भीगे ।

मुझे याद है ,
आप ही थे ,
शायद …

अभी बस कुछ दिनों पहले फिर,
मुझे स्ट्रेचर पर डॉक्टर ले जा रहे थे जब,
आपरेशन थिएटर में बैठे थे आप ।

मुझे याद है ,
आप ही थे ,
शायद …

मेरी यादें अब धुंधली ,
आँखों की रौशनी बुझती ,
बे-आवाज़ कमरे में,
आप अब मुझसे मिलने आए हैं ?

क्या मैं आपको जानता हूँ ?

-हरेकृष्ण आचार्य

Photo by:
Submitted by: हरेकृष्ण आचार्य
Submitted on: Fri Sep 18 2015 22:02:53 GMT+0530 (IST)
Category: Original
Language: हिन्दी/Hindi


- Read submissions at http://abillionstories.wordpress.com
- Submit a poem, quote, proverb, story, mantra, folklore, article, painting, cartoon, drawing, article in your own language at http://www.abillionstories.com/submit

Comments